न कोई गोली-इंजेक्शन और न ही कोई हर्बल पाउडर, सिर्फ पानी पीकर आप शुगर को कंट्रोल कर सकते हैं, जानिए कैसे | Techy Win

डायबिटीज के मरीज भी पानी पीकर अपने शुगर लेवल को कंट्रोल में रख सकते हैं। इसके लिए आपको तांबे के बर्तन में पानी पीना है। दरअसल कॉपर एक ऐसा मिनरल है जिसमें ऐसे गुण होते हैं जो ब्लड शुगर लेवल को कम करते हैं।

मधुमेह की समस्या आज के समय में आम हो गई है। आजकल सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं बल्कि युवा भी इस समस्या से जूझ रहे हैं। डायबिटीज में मरीज का ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ता है। डायबिटीज के मरीजों को अपने खान-पान और रहन-सहन का खास ख्याल रखना चाहिए। डायबिटीज के मरीज अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं। लेकिन आज हम आपको शुगर कंट्रोल करने का सबसे आसान तरीका बताने जा रहे हैं

डायबिटीज के मरीज भी पानी पीकर अपने शुगर लेवल को कंट्रोल में रख सकते हैं। इसके लिए आपको तांबे के बर्तन में पानी पीना है। दरअसल कॉपर एक ऐसा मिनरल है जिसमें ऐसे गुण होते हैं जो ब्लड शुगर लेवल को कम करते हैं। तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से वात, कफ और पित्त संतुलित रहता है, जिससे कई बीमारियों से बचाव होता है।

तांबे के बर्तन में रखे पानी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो प्रतिरक्षा को मजबूत करने और रेल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करते हैं। त्वचा की समस्या, सूजन आदि समस्याओं में तांबे के बर्तन में रखे पानी का सेवन करने से लाभ होता है।

तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से भी पेट से संबंधित समस्याएं दूर हो जाती हैं। इस पानी को पीने से शरीर में पोषक तत्व आसानी से अवशोषित हो जाते हैं, जिससे सेहत को फायदा होता है। तांबे के बर्तन का पानी पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और कब्ज जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करता है।

तांबे के बर्तनों का उपयोग कैसे करें

तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने का फायदा आपको तभी मिलेगा जब आप उसका सही तरीके से इस्तेमाल करेंगे। इसके लिए रात को तांबे के बर्तन में पानी भरकर रखें और सुबह इसका सेवन करें। इस बात का ध्यान रखें कि तांबे का बर्तन जमीन पर न रखें बल्कि एक टेबल पर रखें। आपको बता दें कि तांबे के बर्तन में पानी कम से कम 8 घंटे तक रखें, तभी लाभ होगा। हालांकि, अगर आप डायबिटीज की दवा ले रहे हैं तो तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से आपका ब्लड शुगर लेवल अचानक गिर सकता है, इसलिए डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

तांबे के बर्तनों की सफाई

अगर आप तांबे के बर्तन में पानी रखते हैं तो उसकी साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। तांबे के बर्तन को अंदर और बाहर दोनों तरफ से अच्छी तरह साफ करें। यदि तांबे के बर्तन की कई दिनों तक सफाई नहीं की जाती है, तो उसके अंदर कॉपर ऑक्साइड (हरा रंग) की एक परत जमा होने लगती है, जिससे पानी का पूरा लाभ नहीं मिल पाता है। इतना ही नहीं कॉपर ऑक्साइड और कॉपर के रिएक्शन से भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

– प्रिया मिश्रा

अस्वीकरण: इस लेख में सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और सूचनाओं को डॉक्टर या चिकित्सकीय पेशेवर की सलाह के रूप में न लें। किसी भी बीमारी के लक्षण होने पर डॉक्टर से सलाह लें।

Source link

Leave a Comment